Navratri shayari 2019

रूठी है तो मना लेंगे, 
पास अपने उसे बुला लेंगे,

 मैया है वो दिल की भोली, 
बातों में उसे लगा लेंगे, 
Navratri ki shubhkamnaye
बहुत दूर अभी जाना है,
 पर चिंता नही चिंतन का 
दामन थामा है क्योंकि
 माँ ने मेरी मुझे अपना माना है..!
 जय माता दी


माँ की आराधना का ये पर्व हैं,
 माँ के नौ रूपों की भक्ति का पर्व हैं, 
बिगड़े काम बनाने का पर्व हैं, 
भक्ति का दिया दिल में जलाने का पर्व हैं
हम को था इंतज़ार वो घडी आ गयी, 
होकर सिंह पर सवार माता रानी 
आ गयी होगी अब मन की हर मुराद पूरी, 
हरने अब सारे दुःख माता द्वार आ गयी
 माँ लक्ष्मी का हाथ हो, 
सरस्वती का साथ हो, 
गणेश का निवास हो, 
और माँ दुर्गा के आशीर्वाद से, 
आपके जीवन में प्रकाश ही प्रकाश हो 
जय माता दी।
✨ ✨ ✨

Post a Comment

0 Comments